Now you can Subscribe using RSS

Submit your Email

Wednesday, July 10, 2013

प्रकृति और पतन के बढ़ते कदम : अंकुर मिश्र "युगल"

Er. Ankur Mishra'yugal'
मानते है प्रगति पथ पर हम बहुत आगे बढे हो,

बदलो से और ऊपर चाँद-तारो पर चढ़े हो !

जलधि अम्बर एक करके स्वर्ग धरती पर बनाए ,

और मरुस्थल पर भी तुमने मृदु अम्बु के अंचल बहाए !

ब्रह्म का नितशोध करके ब्रह्म ज्ञानी तुम कहाए ,

मौत के मुख से भी जिंदगी तुम वापस ले आए !

चाहते क्या कोकिला भी गीत अब गए नही ,

क्या मधुर पुष्पों के उपवन है तुम्हे भाए नही !

नाज से मुक्ति की ऐसी एक दुनिया बनाओ ,

शान्ति हो सदभाव हो विध्वंश के सभ नाश हो!!

Er. Ankur Mishra'yugal' / Author & Editor

Has laoreet percipitur ad. Vide interesset in mei, no his legimus verterem. Et nostrum imperdiet appellantur usu, mnesarchum referrentur id vim.

0 comments:

Post a Comment

Coprights @ 2016, Blogger Templates Designed By Templateism | Copy Blogger Themes